शायरी २ लाइन में – ये बरसो का ताल्लुक़ तोड़

ये बरसो का ताल्लुक़ तोड़ देना चाहते है हम

अब अपने आप को भी छोड़ देना चाहते है हम