शायरी २ लाइन में – यूँ ही गुजर जाती हैं

यूँ ही गुजर जाती हैं शाम अंजुमन में ,

कुछ तेरी आँखों के बहाने कुछ तेरी बातो के बहाने