शायरी २ लाइन में – तुम्हारे एक लम्हें पर

तुम्हारे एक लम्हें पर भी मेरा हक़ नहीं..

ना जाने तुम किस हक से मेरे हर लम्हें में शामिल हो