शायरी २ लाइन में – ऐ दिल जो हो सके तो

ऐ दिल जो हो सके तो लुत्फे-गम उठा ले,

तन्हाइयों में रो ले महफिल में मुस्कुरा ले।