शायरी २ लाइन में – ए ज़िन्दगी ए इश्क में

ए ज़िन्दगी ए इश्क में समझा नहीं तुझको

जन्नत भी जहन्नुम भी ये क्या बूलजबी है