शायरी २ लाइन में – अगर दर्द ए मोहब्बत से

अगर दर्द-ए-मोहब्बत से न इंसाँ आश्ना होता

न कुछ मरने का ग़म होता न जीने का मज़ा होता