व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – इस शहर ए बे चराग़ में

इस शहर-ए-बे-चराग़ में जाएगी तू कहाँ

आ ऐ शब-ए-फ़िराक़ तुझे घर ही ले चलें