व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – ज़माना हो गया ख़ुद से

ज़माना हो गया ख़ुद से मुझे लड़ते-झगड़ते

मैं अपने आप से अब सुल्ह करना चाहता हूँ