व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – कारोबार में अब के

कारोबार में अब के ख़सारा और तरह का है

काम नहीं बढ़ता मज़दूरी बढ़ती जाती है