व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – सहमी सहमी हुई

सहमी सहमी हुई रहती है मकाने दिल में

आरजुए भी गरीबों की तरह होती है ।।