व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – फैंसला ये है

फैंसला ये है की अब आवाज नहीं देनी किसी को

हम भी देखे कौन कितना तलबगार है हमारा