व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – सफ़र में हर क़दम रह

सफ़र में हर क़दम रह रह के ये तकलीफ़ ही देते

बहर-सूरत हमें इन आबलों को फोड़ देना था