व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – मैं अपनी मुहब्बत का

मैं अपनी मुहब्बत का शिकवा तुमसे कैसे करूँ,

मुहब्बत तो हमने की हैं, तुम तो बेकसूर हो