व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – तेरा कोई क़सूर नहीं

तेरा कोई क़सूर नहीं…ऐ ज़िंदगी…

ये उदासियाँ मैंने ख़ुद ही चुनी हैं