व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – हो जाती है

हो जाती है नफ़रत हर उस जगह से

जहां बैठने से तेरा ख़याल आ जाय