मुफ़्लिस शायरी – यूँ तो बनते भी है

यूँ तो बनते भी है कानून यहाँ रोज़ नए
न्याय मुफ़्लिस को मिले ऎसी हुकूमत ही नहीं