मुफ़्लिस शायरी – पेट भरने की ख़ातिर वो

पेट भरने की ख़ातिर वो मुफ़्लिस चने,
रोज़ लोहे के चुन – चुन चबाता गया