मुंतज़िर शायरी – मोहब्बत, देर हो गयी तुझ

मोहब्बत, देर हो गयी तुझ को..
अब कोई मुंतज़िर नहीं है यहाँ