मुंतज़िर शायरी – मुंतज़िर किसका हूँ टूटी हुई

मुंतज़िर किसका हूँ टूटी हुई दहलीज़ पे मैं
कौन आएगा यहाँ कौन है आने वाला