मंजर शायरी – बहुत खुश हुए की अकेले

बहुत खुश हुए की अकेले है हम,
आज जब मोहब्बत करने वालों के मंजर देखे