बाग़बाँ शायरी – बाग़बाँ तू ही बता, किसने

बाग़बाँ तू ही बता, किसने इसे फूँक दिया
आशियाँ मैंने बनाया था, बड़ी मेहनत से I