फ़क़त शायरी – वक़्त सही है, पर मैं

वक़्त सही है, पर मैं ग़लत हूँ,
ग़लतियों का पुतला, फ़क़त हूँ