पैहम शायरी – जीने न दें हयात की

जीने न दें हयात की पैहम शरारतें
इंसाँ जो ख़ुद शरीर न हो ज़िंदगी के साथ