नाज़ शायरी – क़दम उठे भी नहीं बज़्म-ए-नाज़

क़दम उठे भी नहीं बज़्म-ए-नाज़ की जानिब
ख़याल अभी से परेशाँ है देखिए क्या हो