दास्ताँ शायरी – हाए कैसी वो शाम होती

हाए कैसी वो शाम होती है
दास्ताँ जब तमाम होती है…