जुदाई शायरी – ना मेरी नीयत बुरी थी…

ना मेरी नीयत बुरी थी… ना उसमे कोई बुराई थी…
सब मुक़द्दर का खेल था… बस किस्मत में जुदाई थी…