जनाब शायरी – मोहब्बत भी चाहते हो और

मोहब्बत भी चाहते हो और मुक्म्म्ल वफ़ा भी,
जनाब आप तो धुंए के बादलों से बरसात माँग रहे हो..