जंजीर शायरी – शर्म की जंजीर है मेरे

शर्म की जंजीर है मेरे पैरों में
फिर भला कैसे हद से गुजर जाँऊ मैं