गुफ़्तुगू शायरी – सीरत से गुफ़्तुगू है क्या

सीरत से गुफ़्तुगू है क्या मो’तबर है सूरत
है एक सूखी लकड़ी जो बू न हो अगर में