ख़ुलूस शायरी – दुनिया का ग़म शरीक़ है

दुनिया का ग़म शरीक़ है मेरे ख़ुलूस में
अब मैं तेरे सुलूक के क़ाबिल नहीं रहा