ख़ुलूस शायरी – दिल में तिरे ख़ुलूस समोया

दिल में तिरे ख़ुलूस समोया न जा सका
पत्थर में इस गुलाब को बोया न जा सका