क़ाफ़िला शायरी – ख़ुद ही शामिल नहीं सफ़र

ख़ुद ही शामिल नहीं सफ़र में,
पर लोग कहते हैं,क़ाफ़िला हूँ मैं…

One comment

  1. Kafila kho ya tnha rasta aisa h zindgi ka ki ishq ho jaye safar se…
    Bs maangti hu itna ki khuda saath mere rhe hamsafar se.

Comments are closed.