इम्तिहाँ शायरी – मुखातिब हैं साकी की मख्मूर

मुखातिब हैं साकी की मख्मूर नजरें,
मेरे ज़र्फ का इम्तिहाँ हो रहा है