इनायत शायरी – यारब मुझे महफ़ूज़ रख उस

यारब मुझे महफ़ूज़ रख उस बुत के सितम से
मैं उस की इनायत का तलबगार नहीं हूँ..