इजाज़त शायरी – भूल सको तो भूल जाओ

भूल सको तो भूल जाओ मुझे… न भूल पाओ तो…
लौट आना पास मेरे… इक और भूल की इजाज़त है तुझे…