इजाज़त शायरी – न तड़पने की इजाज़त है

न तड़पने की इजाज़त है न फ़रियाद की है
घुट के मर जाऊँ ये मर्ज़ी मिरे सय्याद की है