इजाज़त शायरी – कुछ तो मिल जाए लब-ए-शीरीं

कुछ तो मिल जाए लब-ए-शीरीं से
ज़हर खाने की इजाज़त ही सही