इजाज़त शायरी – इजाज़त हो तो तेरे चहेरे

इजाज़त हो तो तेरे चहेरे को देख लूँ जी भर के,
मुद्दतों से इन आँखों ने कोई बेवफा नहीं देखा..