Anmol Hindi Shayari

Shayari Collection In Hindi

loading...

रिफ़ाक़त शायरी – क्यों न हम अहदे-रिफ़ाक़त को

क्यों न हम अहदे-रिफ़ाक़त को भुलाने लग जायँ
शायद इस ज़ख़्म को भरने में ज़माने लग जायँ

loading...
Updated: April 27, 2017 — 5:13 pm
Anmol Hindi Shayari © 2017