Anmol Hindi Shayari

Shayari Collection In Hindi

loading...

रवादारी शायरी – मसीहा दर्द के हमदर्द हो

मसीहा दर्द के हमदर्द हो जायें तो क्या होगा ?
रवादारी के ज़ज्बे सर्द हो जायें तो क्या होगा ?

loading...
Updated: November 3, 2017 — 3:29 pm
Anmol Hindi Shayari © 2017