Anmol Hindi Shayari

Shayari Collection In Hindi

loading...

रवादारी शायरी – खुदगर्ज़ी औ अमरत परसती थी

खुदगर्ज़ी औ अमरत परसती थी बीमारी
नस्ल में तुम्हारी ना होती ग़ैर रवादारी

loading...
Updated: January 5, 2018 — 4:47 pm
Anmol Hindi Shayari © 2017