Anmol Hindi Shayari

Shayari Collection In Hindi

loading...

नाज़ शायरी – वो शहर में था तो

वो शहर में था तो उस के लिए औरों से भी मिलना पड़ता था
अब ऐसे-वैसे लोगों के मैं नाज़ उठाऊँ किस के लिए

loading...
Updated: November 3, 2017 — 3:29 pm
Anmol Hindi Shayari © 2017