Anmol Hindi Shayari

Shayari Collection In Hindi

loading...

जानाँ शायरी – कुछ और भी हैं काम

कुछ और भी हैं काम हमें ऐ ग़म-ए-जानाँ
कब तक कोई उलझी हुई ज़ुल्फ़ों को सँवारे..

loading...
Updated: April 29, 2017 — 12:46 pm
Anmol Hindi Shayari © 2017