Anmol Hindi Shayari

Shayari Collection In Hindi

loading...

क़फ़स शायरी – थी असीरान-ए-क़फ़स को आरज़ू परवाज़

थी असीरान-ए-क़फ़स को आरज़ू परवाज़ की
खुल गई खिड़की क़फ़स की क्या कि क़िस्मत खुल गई

loading...
Updated: September 28, 2017 — 10:43 am
Anmol Hindi Shayari © 2017