Anmol Hindi Shayari

Shayari Collection In Hindi

loading...

इनायत शायरी – यारब मुझे महफ़ूज़ रख उस

यारब मुझे महफ़ूज़ रख उस बुत के सितम से
मैं उस की इनायत का तलबगार नहीं हूँ..

loading...
Updated: June 23, 2017 — 5:19 pm
Anmol Hindi Shayari © 2017